Abhinandan Vartaman Biography in Hindi

Abhinandan Vartaman Biography in HindiAbhinandan Varthaman एक ऐसा नाम है जो कि 27 फरवरी 2019 से पहले तक बहुतों ने सुना भी नही था। लेकिन 27 फरवरी को देखते ही देखते यह नाम हर भारतीय की ज़बान पर चढ़ गया। मीडिया से ले कर अधिक्तर लोग केवल इसी एक नाम की चर्चा कर रहे थे। Abhinandan Varthaman भारतीय वायु सेना में लड़ाकू विमान के पायलट हैं। अभिनंदन वर्तमान का उपनाम “ABHI” है। अभिनंदन भारत के दक्षिणी राज्य, तमिलनाडु(Tamil Nadu) से आते है।

Abhinadan Vartaman

इस नाम के आम होने की बड़ी वजह Abhinandan Varthaman की बहादुरी रही है। भारत पाकिस्तान के बीच हालिया तनाव के कारण जब पाकिस्तानी एयरफोर्स के जहाज भारत की वायु सीमा में आए तब Abhinandan Varthaman ने बड़ी बहादुरी से उस पाकिस्तानी जहाज़ को नेस्तनाबूत कर दिया। लेकिन इस दौरान उनका लड़ाकू जहाज़ भी दुर्घटना का शिकार हो गया। इस कारण वह जहाज़ से पैराशूट की मदद से ज़मीन पर कूद गए। दुर्भाग्य से जब वह ज़मीन पर आए तो वह पाकिस्तान में थे। इसके बाद पाकिस्तान ने इन्हें अपने कब्जे में ले लिया था। हालांकि 2 दिन बाद ही यानी 1 मार्च 2019 को पाकिस्तान ने Wing Comander Abhinandan Vartaman को भारत के हवाले कर दिया।

इस लेख में इसी जाबाज़ Wing Comander Abhinandan Vartaman के बारे में बताने जा रहे हैं।

Wing Commander Abhinandan Vartaman

Abhinandan Varthaman भारतीय वायु सेना में लड़ाकू विमान के पायलट हैं।
Abhinandan Vartaman का उपनाम “ABHI” है। Abhinandan Vartaman भारत के दक्षिणी राज्य, तमिलनाडु(Tamilnadu) से आते है। Abhinandan Vartaman का जन्म तमिलनाडु के Chenei city के Tambaram  नाम के जगह पर 21 जून 1983 को हुआ था। यह एक ऐसे परिवार से आते हैं जो कि काफी समय से भारतीय सेना(Indian Army) से ही जुड़ा हुआ है। इनका परिवार पहले थिरूपनमूर(Thiruanantpuram) में रहा करता था। इसके बाद यहां से इनका परिवार कांचीपुरम के नज़दीक एक गांव में आ गया।

Abhinandan Vartaman की शिक्षा (Educational Qualification)

Abhinandan Varthaman की आरंभिक शिक्षा बैंगलोर में हुई थी। इन्होंने अपनी 10वीं  कि शिक्षा बैंगलोर के केंद्रीय विद्यालय DRDO बेंगलुरु से 1998 में की थी। इसके बाद इन्होंने 11वीं तथा 12 वीं केंद्रीय विद्यालय NAL बेंगलुरु से की थी। इन्होंने अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई National Defence Academy से पूरी की थी। Abhinandan Varthaman ने भारतीय वायु सेना 19 जून 2004 में जॉइन किया था। इसके बाद से ही वह वायु सेना का हिस्सा हैं।
Abhinandan Vartaman का सर्विस नंबर 27981 है। आरंभ में Abhinandan Varthaman फाइटर पायलट के तौर पर भारतीय वायु सेना को जॉइन किया था। इन्होंने पायलट की ट्रेनिंग भारतीय वायु सेना के भटिंडा तथा हलवारा में मौजूद ट्रेनिंग सेंटर से ली थी। वर्तमान में Abhinandan Varthaman MIG 21 लड़ाकू जहाज़ के पायलट हैं। लेकिन इससे पहले वह सुखाई(Sukhoi) 30 MKI नाम के लड़ाकू जहाज़ के पायलट हुआ करते थे।

अभिनंदन का परिवार(Family)

Abhinandan Varthaman अपने परिवार के तीसरी पीढ़ी के सदस्य हैं जिन्होंने वायु सेना में काम किया है। Abhinandan Varthaman के दादा भी वायु सेना में रहे हैं। इनके दादा ने दूसरे विश्व युद्ध में भाग लिया था। इसके अलावा Abhinandan Vartaman के पिता श्री सिम्हाकुट्टी वर्तमान भी भारतीय वायु सेना में थे। इनके पिता  एयरमार्शल थे तब भारतीय वायु सेना से रिटायर्ड हुए थे।
Abhinandan Varthaman की मां का नाम डॉक्टर शोभा वर्तमान( Dr. Sobha Vartaman) है। Dr. Sobha Vartaman चिकित्सा के क्षेत्र में काफी बड़ा नाम है। इन्होंने बतौर डॉक्टर कई अलग अलग देशों में अपनी सेवाएं दी हैं। Dr. Sobha Vartaman लाइबेरिया, इराक़, आईवोरि कोस्ट, पपुआ न्यू गिनी तथा लाओस में काम कर चुकी हैं। इन देशों में वह ऐसे क्षेत्र में तैनात रही हैं जो कि हिंसा ग्रस्त रहा है। Dr. Sobha Vartaman ने मेडिकल की पढ़ाई मद्रास मेडिकल कॉलेज तथा पोस्ट ग्रेजुएट द रॉयल कॉलेज ऑफ सर्जन ऑफ इंग्लैंड से की हैं।

Abhinandan Varthaman की पत्नी

Abhinandan Varthaman के परिवार के अन्य सदस्यों की ही तरह उनकी पत्नी भी भारतीय वायु सेना में काम कर चुकी हैं। इनकी पत्नी का नाम तन्वी मारवाह ( Tanvi Marwaha ) है। तन्वी मारवाह बतौर स्क्वार्डन लीडर, 15 साल तक भारतीय वायु सेना में काम कर चुकी हैं। फिलहाल इनकी पत्नी चेन्नई में किसी निजी कम्पनी में काम कर रही हैं। अभिनंदन और तन्वी की जान पहचान काफी पुरानी थी। यानी शादी तथा वायु सेना में काम करने के अतिरिक्त ये दोनों आरंभिक समय में साथ में ही पढ़ाई भी कर चुके हैं। तन्वी का संबन्ध चेन्नई से है। तन्वी भारतीय वायु सेना में हेलिकॉप्टर पायलट रह चुकी हैं। Abhinandan Vartaman तथा तन्वी का एक बेटा है। इनके बेटे का नाम ताविश है।

Abhinandan Varthaman के साथ क्या हुआ था?

Abhinandan Varthaman की इस कहानी की शुरुआत 14 फरवरी को जम्मू के पुलवामा से CRPF के काफिले पर हुए हमले से शुरू होती है। 14 फरवरी को एक आतंकी ने विस्फोटों से भरी गाड़ी को CRPF के काफिले की गाड़ी से टकरा दिया। इस कारण ज़बरदस्त विस्फोट हुआ और 40 से अधिक जवान शहीद हो गए। इस हमले की ज़िम्मेदारी पाकिस्तान के एक आतंकी संगठन ने ली थी। इस हमले से देश आक्रोश से भर गया। इसी का बदला लेने के लिए भारतीय वायु सेना ने हमले के 12 दिन बाद यानी 26 अगस्त को सुबह के 3:30 के आसपास पाकिस्तान में घुस कर आतंकियों को निशाना बनाया।

इसके जवाब में 27 अगस्त को पाकिस्तान ने सुबह के 10 बजे के आसपास अमेरिका में निर्मित F -16 लड़ाकू विमान के साथ भारतीय सीमा में प्रवेश करने की कोशिश की। भारतीय वायु सेना ने तत्काल इसका जवाब दिया। इस क्रम में उस पाकिस्तानी जहाज़ का पीछा करते हुए भारतीय वायु सेना के एक जहाज़ MIG – 21, जिसके पायलट Abhinandan Varthaman थे, उस पाकिस्तानी जहाज़ को मार गिराने में कामयाब रहा। 

पाकिस्तानी जहाज़ के साथ इस लड़ाई में पाकिस्तानी जहाज़ को मात देने में Abhinandan Vartaman कामयाब रहे लेकिन इस दौरान वह पाकिस्तान की सीमा में प्रवेश कर गए।  लेकिन इसके बाद ही उनका MIG 21 भी दुर्घटना का शिकार हो गया। विमान में खराबी आने पर
Abhinandan Vartaman ने खुद को पैराशूट की मदद से जहाज़ से अलग कर लिया। जब वह ज़मीन पर आए तो वह पाकिस्तान की सीमा में, LOC से 7 किलोमीटर अंदर थे। उस समय वह आज़ाद कश्मीर(POK) के Horron नाम के गाँव में उतरे। यह पाकिस्तान के अंतर्गत आता है।

इसके बाद गांव वालों ने, यह जानने के बाद कि वह एक भारतीय हैं, Abhinandan Vartaman को मारने की कोशिश की। इस कारण बचाव में Abhinandan Vartaman ने अपनी बंदूक निकाल ली तथा हवा में गोली भी चलाई। इसके बाद वह पास ही एक नदी में कूद गए। यहां उन्होंने कुछ सेना से जुड़ी संवेदनशील ज़रूरी दस्तावेज़ को निगल लिया तथा कुछ को पानी से बर्बाद कर दिया। इसके बाद ही वहां के स्थानीय लोग आ कर Abhinandan Vartaman को मारने लगे। उनमें से कुछ लोग इनके बचाव में भी आ गए। इसी दौरान वहां पाकिस्तान की सेना आ गयी। यहां से पाकिस्तानी सेना अभिनंदन को अपने साथ ले गयी।

इसी बीच पाकिस्तान के वायु सेना के एक अधिकारी ने दावा किया कि वह भारत के दो पायलट को अपने कब्जे में ले लिया है। तब तक भारतीय वायु सेना या सरकार की ओर से इस बात की पुष्टि नही हुई थी। इसके बाद भारतीय वायु सेना ने एक बयान जारी करते हुए अपने एक पायलट तथा MIG – 21 विमान के गायब होने की पुष्टि की। इसके बाद ही पायलट अभिनंदन का एक वीडियो सोशल मीडिया पर पाकिस्तान की ओर से जारी किया गया। इसमें वह खुद को भारतीय वायु सेना का पायलट बताते तथा कुछ निजी जानकारी देते आये। इससे पहले भी एक वीडियो आया था जिसमें वह घायल लग रहे थे। लेकिन बाद वाले वीडियो में वह ठीक थे।

इसके बाद भारत की ओर से भी इस बात की पुष्टि कर दी गयी के गायब हुए पायलट Abhinandan Varthaman ही हैं। इसके बाद भारत ने जल्दी ही पाकिस्तान को विंग कमांडर Abhinandan Varthaman को जेनेवा समझौते के तहत रिहा करने को कहा। जेनेवा समझौते(Geneva Agreement) के बारे में बता दें कि यह विश्व के लगभग 194 देशों के बीच एक समझौता है जिसमें युद्ध बंदी के अधिकार तथा उन्हें उसके देश वापस करने से संबंधित शर्ते हैं। उसी के तहत भारत द्वारा यह मांग की गई थी।

भारत की ओर से बढ़ते दबाव को देखते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान(Prime Minister Imran Khan ) ने 28 अगस्त 2019 को पाकिस्तान के संसद में 1 मार्च को Wing Comander Abhinandan Varthaman को भारत को सौंपने का ऐलान किया।
Prime Minister Imran Khan ने कहा कि वह यह फैसला शांति का संदेश देने के लिए उठाया है। इसके बाद 1 मार्च को सुबह से Abhinandan Varthaman की वापसी का देश बेसब्री से इंतज़ार कर रहा था। लेकिन वापसी की प्रक्रिया में देर होते होते अन्ततः 1 मार्च को रात के 9:21 मिनट पर Abhinandan Varthaman को पाकिस्तान ने वाघा बॉर्डर पर BSF के अधिकारियों के हवाले कर दिया।


Wing Comander Abhinandan Varthaman की भारत वापसी

लगभग 60 घँटे तक पाकिस्तान की हिरासत में रहने के बाद शुक्रवार, 01 मार्च 2019 को रात के 9:21 मिनट पर भारतीय सीमा में प्रवेश करने के बाद Abhinandan Varthaman विशेष विमान से दिल्ली के Palam Airport पर आए। जहां उनके परिवार के सदस्य तथा भारतीय वायु सेना के अधिकारी मौजूद थे। इसके बाद उन्हें दिल्ली के ही आर्मी अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां उन्हें विभिन्न जांच से गुजरना है। जांच में Abhinandan Varthaman स्वस्थ पाए गए हैं। लेकिन पाकिस्तान द्वारा उनके मानसिक उत्पीड़न करने की बात सामने आई है।

Abhinandan Varthaman अब क्या करेंगे?

एक आम सवाल जो कि लोगों के दिमाग में है, वह यह है कि अब Abhinandan Varthaman क्या करेंगे, क्या वह फिर से भारतीय वायुसेना में अपनी सेवाएं देंगे? इस सवाल का जवाब भारतीय वायुसेना के प्रमुख ने 04 मार्च को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिया। कहा कि अगर Abhinandan Varthaman शारीरिक रूप से पूरी तरह स्वस्थ पाए जाते हैं तो निश्चित ही वह फिर से फाइटर पायलट के रूप में भारतीय वायुसेना में अपनी सेवाएं देंगे। उनका सेवा में वापस आना पूरी तरह उनके फिटनेस पर निर्भर करेगा।

ये Post आप सभी Viewers को कैसा लगा Comment box में जरूर लिखे और हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारे Social Media ( Facebook , Twitter , Google Plus ) को Like और Follow कर सकते हैं धन्यवाद।

Add Comment

error: Content is protected don\\\\\\\'t copy !!