Bounce rate क्या है ?Bounce Rate Tips 2019।

Hello Everyone , इस Article में आज हम जानेंगे Bounce Rate क्या है ? और इसे कैसे कम करते है ?अपने Website को सही तरीके से चलाए रखने के लिए ज़रूरी है की इस बात पर भी ध्यान दिया जाए की आपके Website पर आने वाले लोग आपके Website पर कितना समय बिताते हैं या आपके Website पर आने वाले Visitors  किस तरह का Content ज़्यादा पसंद करते हैं। इन बातों को समझने के लिए ज़रूरी है कि पहले यह जाना जाए कि इन बातों को किस तरह समझा जा सकता है।

आपको बता दें कि इन सभी चीज़ों को समझने के लिए Internet Marketing में एक Terms उपयोग किया जाता है । इसे Bounce Rate कहते हैं। उसका उपयोग Web Traffic Analysis के लिए किया जाता है। इस article में इसी बात पर चर्चा की गई है। इसमें हम इससे से जुड़ी सभी छोटी बड़ी चीज़ों को बताएंगे। Bounce Rate को समझ कर ही आप अपने Website को बेहतर तरीके से manage करते हुए Traffic भी बढ़ा सकते हैं। इसे बेहतर तरीके से समझने के लिए इस लेख को अन्त तक ध्यान से पढ़ें। चलिए, सबसे पहले जानते हैं कि Bounce Rate क्या है?

Bounce Rate क्या है?

bounce rate

Bounce rate एक ऐसा term है जिसका उपयोग Web Site पर आने वाले Traffic के Analysis के लिए किया जाता है। Bounce Rate यह बताता है कि आपके Website पर कितने लोगों ने Visit किया और बिना किसी दूसरे Article पर Click किए बिना ही आपके Page को छोड़ कर ( Bounce ) कर के चले गए। Bounce Rate यह Calculate करता है कि आपके Website पर आने वाले एक व्यक्ति ने कितना समय व्यतीत किया है।

Bounce Rate यह Measure करता है कि आपका Website लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने में कामयाब नही हो पाता है। आपके Website पर जो भी लोग आते हैं, वह बिना किसी दूसरे Page को खोले ही चले जाते हैं। किसी भी Website का Bounce Rate प्रतिशत ( Percentage ) के रूप में व्यक्त किया जाता है। आप अपने Website की Bounce rate Google Analytics की मदद से देख सकते हैं।

Bounce Rate का उद्देश्य

इसकी मदद से Website की Performance को समझा जाता है। यानी कि यह बताता है कि Website किस संख्या में पाठकों को अपने Website की ओर आकर्षित करने में कामयाब हो पाता है, तथा यह भी बताता है कि Visitors आपके Website पर कितना समय बिताते हैं।

Bounce rate का मुख्य उद्देश्य Bounce Rate को समझते हुए अपने Website को Manage करना होता है। अगर किसी Website का Bounce Rate जितना कम है, वह Website उतना ही अच्छा Performance करने में कामयाब होता है। यानी कि कम Bounce Rate वाले Page पर आने वाले Visitors उस Website पर ज़्यादा समय बिताते हैं साथ ही अन्य आर्टिकल / देखने में कामयाब होते हैं।

Bounce Rate के बारे में एक तथ्य यह भी है कि हर बार Website का Bounce Rate High होना Negative Sign ही नही होता है। कुछ मामलों में Bounce Rate High रहते हुए भी Website का Performance अच्छा हो सकता है।

इसे पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे कि Bounce Rate क्या है। अब बात करते हैं कि एक Website के लिए कितना Bounce Rate बेहतर होता है।

Range Of Bounce Rate

जैसा कि हम जानते हैं कि Website कई अलग अलग तरह के होते हैं। कुछ Website, e-Commerce और Retail Website होते हैं। कुछ website News वाले होते हैं। इसी आधार पर Bounce Rate भी Website के लिए अलग अलग होता है । अलग अलग Website के लिए औसत Bounce Rate निम्नलिखित है ।

1. Content Website

Content Website – इस तरह के Websites पर सामान्य Content रहते हैं। ऐसे Website का औसत Bounce Rate 35 % – 60 % तक होता है।

2. Landing Page

Landing Page – इन तरह के page के लिए औसत Bounce Rate 60 % – 90 % तक होता है।

3. Retail Website

Retail Website – e Commerce और Retail Website के लिए 20 % – 45 % औसत Bounce rate होता है।

4. B2B Website

B2B Website – इस प्रकार के Website के लिए 25 से 55 प्रतिशत औसत Bounce Rate होता है।

5. Lead Generation Website

Lead Generation Website – लीड जेनरेशन Website के लिए औसत Bounce Rate 30 % – 55 % तक होता है।

6. Dictionary, Blog, News and Event Website

Dictionary, Blog, News and Event Website – इन सभी तरह के Website का औसत Bounce Rate 65 % से 90 % तक होता है।

अलग – अलग Website पर अलग अलग Bounce Rate की जानकारी के बाद, बात करते हैं अलग – अलग Webpage की और इस पर आने वाले Bounce Rate की।

अलग अलग Webpage पर Bounce Rate

  • Blog Posts पर औसत Bounce Rate 65 % तक होता है। कभी कभी इन Webpage पर 65 % से भी अधिक देखा जाता है। इस पर समान्यतः User ऐसे Webpage पर आते हैं और सिर्फ एक ही Article पढ़ कर या आवश्यकता अनुसार जानकारी जुटा कर ऐसे Webpage को छोड़ कर चले जाते हैं। इस कारण ऐसे Webpage पर समान्यतः अधिक Bounce Rate दर्ज किया जाता है।
  • Submission Page यानी ऐसे Page जिस पर जा कर कुछ जानकारी दर्ज करने होते हैं, ऐसे Webpage पर  लोग जानकारी दर्ज करने के बाद ही ऐसे Page को छोड़ कर चले जाते हैं। इस कारण इन Website पर Bounce Rate भी काफी अधिक रहता है।
  • Website पर अक्सर हम Contact Us Page देखते हैं। ऐसे Page पर लोग अक्सर सिर्फ जानकारी जुटाने के उद्देश्य से visit करते हैं। इसके तुरंत बाद लोग इस वेबसाइट को छोड़ कर ही चले जाते हैं। इस कारण इसपर भी Bounce Rate ज़्यादा होता है।
  • Customer Support Page पर भी Bounce Rate अधिक होता है। हालांकि ऐसे Webpage पर ज़्यादा Bounce Rate एक अच्छा Sign माना जाता है।
  • Confirmation Page एक ऐसा Page होता है जब आप सारी जानकारी या अपने आवश्यकता किसी Website पर जा कर पूरी करने के बाद जब Confirm करते हैं तो ऐसे Webpage पर Bounce Rate बढ़ता रहता है। ऐसे Webpage पर Bounce Rate अधिक होने से Website पर फ्रंक नही पड़ता। बल्कि यह Website की सफलता को भी दर्शाता है।

Bounce Rate के कारण ( Cause of Bounce Rate )

Bounce Rate के कई कारण हो सकते हैं। सामान्यतः Bounce Rate के अधिक होने के कारण SEO पर भी काफी असर पड़ता है। इस कारण आपका Website Search Engine में First Page पर दिखना भी बंद हो जाता है। आपको बताते हैं कि कौन कौन से Common कारण है जिससे कि High Bounce Rate की समस्सया आने लगती है।

1. Slow to Load Page

SEO के लिए ज़रूरी है कि आपके Website का Loading Speed अच्छा हो। जैसे कि जब भी हम किसी Website पर जाते हैं तो हम चाहते हैं की Website जल्दी से जल्दी खुल जाए। इसी तरह जब आपके Website पर भी कोई आता है तो उसकी भी आशा होती है कि Page जल्दी load हो। ऐसे मे अगर आपका Page Slow Load होता है तो इससे User पर काफी असर पड़ता है। एक बार इस Page पर आने के बाद लोग अधिक समय लगने के कारन जल्दी ही पेज छोड़ भी जाते हैं। लोगों के इस तरह छोड़ कर जाने से Page पर Bounce Rate बढ़ने लगता हैं।

Google Algorithm भी Search Engine में उन्ही Website को प्राथमिकता देता है जो कि अच्छी Speed से Load होता है। ऐसे में SEO के लिहाज से आपको हर हाल मे आपके Website की Speed पर ध्यान देना होगा। आप अपने Website की speed जांचने के लिए कुछ खास Tools का उपयोग कर सकते हैं। कुछ बेहतरीन Speed test tools Google का Google Page Speed Insights, Kingdom तथा GTMetrix इत्यादि। इससे आप स्पीड जांच कर इसे सुधार सकते हैं।

2. Misleading Title Tag

जैसा कि कहा जाता है कि कंटेंट अगर राजा है तो Heading उसका ताज है। इसलिए Content और Title पर खास ध्यान देना होता है। अगर अपने कंटेंट किसी और बारे में लिखा है और उसका Heading ऐसा दे दिया है जो कि आपके Content को ठीक ठीक Represent नही कर पाता है तो इसका नुकसान आपको उठाना पड़ सकता है। लोग कुछ Search कर रहे हों और वह Search Engine से आपके Website तक तो आ जाते है लेकिम कंटेंट अपने अनुसार न पाने के कारण जल्दी ही Page छोड़ कर चले जाते हैं। इससे भी Bounce Rate बढ़ने लगता है। इसलिए Heading का Selection हमेशा ऐसा ही रखना चाहिए जो कि कंटेंट के अनुसार हो।

3. Misleading Meta Description

Meta Description किसी भी कंटेंट का सारांश होता है। Meta Description में अधिकतर उन्ही शब्दो का उपयोग किया जाता है जो कि Content में शामिल होते है। जब Search Engine में कोई Result आता है तो लिंक के नीचे जो Text दिखते हैं, उसे ही Meta Description कहते हैं। यह काफी हद तक आपके Content के बारे में बताता हैं। अगर आपने Content का Meta Description ठीक ठीक नही लिखा है तो संभव है कि Visitor Confusion में आपके Website पर तो आ जाएंगे लेकिन जल्दी ही वह वापस भी हो जाएंगे। इस तरह यह आपके Website का Bounce Rate बढ़ा देता है।

4. Blank Page or Technical Error

अगर आपका Page Search Engine के पहले Page से गायब हो चुका है या आपके Website पर Bounce Rate काफी अधिक हो चुका है तो आप को जल्दी ही कुछ संभावित बातों की ओर से ध्यान देना चाहिए कि किस कारण आपके Website पर Bounce Rate काफी बढ़ रहा है। इन संभावित कारणों में एक यह भी हो सकता है कि आपके Website पर कुछ Technical प्रॉब्लम आ रहा हो जिस कारण Page ठीक ठीक नही खुल रहा हो या blank page Open हो रहा हो। आप इस Problem को Google Tootls में जा कर जांच सकते हैं।

5. Bad Backlink

Backlinks वह तरीका है जिसके द्वारा एक Website से दूसरे Website तक जाया जा सकता है। अगर आपके Website का Backlink किसी ऐसे Website से लिया गया है जो कि Google Guideline के खिलाफ हो तो इसका सीधा असर आपकी Website पर भी पड़ता है। Low Quality Backlink के कारण page ठीक से काम नही कर पाता है। जिस कारण Website पर आने वाले Visitors जल्द ही वापस हो जाते है। यह High Bounce Rate का कारण बनता है। आपके Website पर सब कुछ ठीक ढंग से करने के बावजूद आपको वैसा परिणाम नही मिल पायेगा जिसकी आप अपेक्षा कर रहे होते हैं।

6. Low Quality Content

किसी भी Website की जान उसपर उपलब्ध सामग्री यानी Content ही होता है। अगर आपके Website पर उपलब्ध Content अच्छी Quality का नही होता है तो Visitro तो Heading और Meta Description देख कर आ जाते हैं लेकिन कंटेंट अपने अनुरूप न होने के कारण page Leave कर जाते हैं। इसलिए जरूरी है जी जब भी आप कंटेंट लिखें तो वह सरल और Simple ही हो जो कि आसानी से User की समझ में आए।

कंटेंट ऐसे Point by Point होना चाहिए जो कि Visitor को आसानी से समझ में भी आता रहे साथ ही उन्हें अपने साथ जोड़े रखने की भी क्षमता रखता हो।

Low Quality Content का कारण यह भी हो सकता है कि आप अपनी बातों को ठीक ढंग से नही रख पा रहे हैं जिससे कि User उससे ऊब कर जल्द ही Website से चला जाये।

Bounce Rate बढ़ने के कुछ कारण जानने के बाद ज़रूरी है कि अब उन गलतियों से बचा जाए जिससे कि एक Website पर Bounce Rate बढ़ता है। इसके अतिरिक्त उन बातों को भी बातों को जाना जाए जिनसे की एक Website पर Bounce Back को नियंत्रित किया जा सकता है।

Bounce Rate कैसे कम करें ? ( How to Reduce Bounce Rate ? )

1. Improve Content Readability

इस Article में उपर में भी Content के बारे में बात की गई है कि किस तरह Low Quality Content आपके Website पर Bounce Rate को High कर देता है। इसलिए सबसे पहले ये करना है कि अगर आप Blog / Website चला रहे हैं तो उसपर पोस्ट किए जाने वाले Content के माध्यम से User के साथ जुड़ने की कोशिश करें। लोगों से जुड़ने के लिए आप Content की Readability को बढ़ाएं जिससे कि एक User को पढ़ने में बोरियत महसूस न हो साथ ही वह इसके साथ जुड़ा भी रहे।

Content की Readability बढ़ाने के लिए आप Content के साथ Sub Headings का Use करें साथ ही Keyword को Bolds रखें, फ़ोटो का Use करें। Content में इस बात का भी ध्यान रखना ज़रुरी आपने Content जिस टॉपिक पर लिखा है, वह उसी से सम्बंधित होनी चाहिए। अगर आप इसमें कुछ अलग बाते डाल देते हैं तो इससे User Page को छोड़ चले जाते है। अगर इन बातों को ध्यान में रखेंगे तो Website से Bounce rate कम होने लगता है।

2. Avoid Popups

एक सर्वे के अनुसार अधिक्तर लोगों का ये मानना था कि जब वह किसी ऐसे Website पर होते हैं जहाँ बड़ी संख्या में Popups दिखने लगते हैं तो इससे User की एकाग्रता भंग हो जाती हैं। इनमें से अधिक्तर लोग ऐसे Website को छोड़ कर चले जाना ही पसंद करते हैं। इस लिए यह ध्यान देनी चाहिए कि Popups कम से कम हों। सात ही अगर Popups हों भी तो, वह इस तरह Design होने चाहिए कि लोगों को आकर्षित करें।

3. Improve Storytelling

आपके पास यह क्षमता होनी चाहिए कि आपके Website पर पोस्ट की गई Content को बेहतर तरीके से लिखा हो। User के पढ़ने की क्षमता और तरीके को समझने के लिए Content को एक Story की तरह ढालें जिससे कि पढ़ने वाले को इससे एक खास जुड़ाव महसूस हो और वह इससे लंबे समय तक जुड़े रहें। कंटेंट में मनगढ़ंत चीज़ों को कहने से बेहतर सच्चाई को प्रस्तुत करें।


4. Keep Website Up-to-date

Website को हमेशा बेहतर Content के साथ Up-to-date रखना हमेशा फायदेमंद रहता है। अगर आपके Website पर नियमित अंतराल पर Content Publish होते रहेंगे तो इससे लोगों का आपके Website की ओर आकर्षण भी बढ़ता जाएगा। इससे फायदा यह है कि आपके Website पर जब भी कोई आता है तो अपनी जरूरत के हिसाब वाले कंटेंट देखने के अलावा कुछ नए Content देखने पर वह उस ओर भी देखते हैं। उससे एक user आपके Website पर पहले की अपेक्षा अधिक समय बिताने लगता है। जिससे कि आपके Website का Bounce Rate घटने लगता है।

5. Write Attractive Meta Description

Meta Description के महत्व के बारे में पहले भी बात की गई है कि अगर आपने Content का Meta Description Topic के अनुसार नही लिखा है तो मुमकिन है कि भ्रामक Meta Description देख कर भले ही Reader आ जाएं लेकिन फिर जल्द ही चले जाते हैं। इएलिये Meta Description पर खास ध्यान देना बहुत जरूरी हैं।

Meta Description इस तरह होना चाहिए कि वह आपके Content को ठीक ठीक दिखाए साथ ही Meta Description Attractive भी हो जिससे कि कम कम शब्दों में ही कही गयी बात से लोगों को Content के बारे में ठीक से समझ आ जाये। इससे ये होगा कि Attravtive और सरल Meta Description देखने के बाद जब User आपके Website पर आएंगे तो वह लंबे समय तक आपके Website से जुड़े रहेंगे। इससे आपके Website का Bounce Rate घटने लगेगा।

इन सारी जानकारी के पढ़ने के बाद आशा है कि आपको Bounce Rate के बारे में ठीक ठीक समझ आ गयी होगी। अब ज़रूरी है कि आप अपने Website को इसी तरह ही Use करें जिससे कि आपके Website का Bounce rate कम हो सके ।

हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारे Social Media ( Facebook , Twitter , Google Plus ) को Like और Follow कर सकते हैं ।

2 Comments

  1. Sarat December 27, 2018

Add Comment

error: Content is protected don\'t copy !!