Google AMP क्या है? AMP के फायदे और नुकसान क्या हैं?

Google AMP क्या है ? – जैसे जैसे समय बदल रहा है वैसे ही Internet भी दिन – प्रतिदिन Advance होता जा रहा है। बड़ी बड़ी कम्पनियां Internet की दुनिया को और भी बेहतर और आसान बनाने के लिए दिन रात Research करती रहती है। एक Internet User होने के नाते भी हमारी चाहत होती है की इसे Use करना Simple और Easy हो। साथ ही हम चाहते हैं कि Internet की Speed भी Fast हो जिससे कि हम कम समय में Internet का उपयोग कर अपना काफी समय बचा सकते हैं।

Google AMP

User की इसी ज़रूरतों और आपेक्षाओं, को ध्यान में रखते हुए अलग – अलग IT Company Internet को  और भी आसान और सरल बनाने के लिए प्रयासरत रहती है। इसी क्रम में Google ने भी काफी ऐसे काम किए जिससे कि Internet का रूप ही बदल गया। कुछ समय पहले तक जब हम किसी Website पर जाते थे तो उसके Page के Load होने में कुछ समय लग जाता था। या कुछ Website पर अब भी समय लगता ही है। इस ओर काम करते हुए एक ऐसे Technology को खोजा जिससे कि Web Page तेज़ी से खुलने लगा। Google के इस Technology को Google AMP कहते हैं। यह मुख्यतः Mobile पर internet Use करने वाले को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है।

इस Article में Google AMP पर ही बात की गई है। इस Article में जानेंगे कि Google AMP क्या है, इसके फायदे, नुकसान क्या हैं। तथा AMP से ही जुड़ी महत्वपूर्ण बातों पर चर्चा की गई है। सबसे पहले जानते हैं कि आखिर Google AMP क्या है।

Google AMP क्या है? ( What Is Google AMP ? )

AMP का Full Form Accelerated Mobile Pages है। यह एक Open Source Project है जो कि मोबाइल पर किसी भी Page के Loading को काफी Fast करता है। दूसरे शब्दों में कहे तो, AMP एक Open Source Library है जो कि आपको Webpage को तेज बनाने की सहूलियत देता है। AMP को मोबाइल User को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है ऐसे में कहा जा सकता है कि आप Google AMP की मदद से अपने Website के Webpage को Mobile Friendly बनाते हैं।

सामान्यतः Webpage Load होने में अधिक समय लगने का मुख्य कारण JavaScript, Third Party Script इत्यादि होता है। लेकिन AMP आपको ऐसे Webpage बनाने की सुविधा देता है जिसमें वह सभी चीज़े हटा दी जाती है जो Webpage के धीमे Load होने का कारण बनता है। Google AMP को दूसरे शब्दों में इस तरह भी समझा जा सकता है कि , Google AMP आपके AMP HTML की मदद से अपने ही Webpage का Duplicate Webpage बनाने की सुविधा देता है। इसके जरिए बने डुप्लीकेट Website में से उन सभी कारकों को हटा दिया जाता है जिनसे की एक Page के Load होने पर फ्रंक पड़ता है।

Google AMP के बारे में पढ़ने के बाद आशा है कि आपको Google AMP के बारे में जानकारी मिल गयी होगी। अब बात करते हैं कि Google AMP काम कैसे करता है।

Google AMP कैसे काम करता है? ( How Does AMP Work ? )

Google AMP के काम करने का तरीका यह है कि Google AMP मुख्यतः आपके Website के किसी चुने गए Webpage का एक Duplicate Page तैयार करता है तथा उस दूसरे Page में आवश्यक बदलाव कर इसे अपेक्षाकृत तेज़ बना देता है। इस तरह Google AMP समान Page का दो Page तैयार करता है। एक जो कि Original Version होता है जबकि दूसरा Page AMP Version कहलाता है।

AMP Version, Original Version से अलग इस तरह Design किया जाता है जिससे कि इस Page की Speed जितनी अधिक संभव हो, उतनी बढ़ सके। AMP Version एक ऐसे Page में बदल जाता है किस पर मुख्यतः सिर्फ Content ही Available होते हैं। इसलिए जैसे ही कोई AMP Version वाले लिंक पर Click करता है, यह Page बिना समय लिए ही Open हो जाता है।

Google ने किसी भी Website के एक Page का AMP Version तैयार करने को ले कर कई Guidelines जारी किया हुआ है। कब भी आप अपने Page का AMP Version Create करें तो इस बात का खास तौर पर ध्यान रखें कि यह काम Google के Guideline के अनुरूप ही हो तथा उस Page को AMP Validator Tools की  मदद से जांच लें।

Google AMP के लिए यह ज़रूरी नही है कि आप अपने Complete Website को ही AMP बदलें। आप AMP के लिए वैसे Page को ही चुने जिस पर आपको लगे कि अधिक User Visit कर सकते हैं। या वैसे Page को Select करें जिस पर अधिक Content मौजूद हो। अगर आप इस तरह के Page को AMP में बदलते हैं तो इससे आपके Website पर भी बेहतर Effect देखने को मिलता है।

जब Page AMP Version बन जाता है तो यह अपने आप ही Website पर Host होता है। इस AMP Page की पहचान ये होती है कि इस पर एक छोटा सा Tag होता है जिसमें इसी Page के Original Version पर जाने जाने के लिए Link दिया होता है या कहें कि Tag में Original Version का Link होता है।

अगर आपका Page AMP Version में पूरी तरह Google के Guideline के अनुरूप बनाया गया है तो यह Page Google के Review के बाद Mobile User के लिए Search Engine Result Page ( SERP ) में दिखने लगता है। जब यह Result SERP में आता है तो इसके साथ में एक Lightning Bolt Symbol भी दिया जाता है जो बताता है कि यह एक AMP Page है। अगर आपका Page पूरी तरह SEO है तो यह AMP Page Google के SERP में टॉप पर भी दिखाई देगा।

Google AMP Technique एक User के नज़रिए से काफी काफी फायदेमंद साबित होता है। इससे पाठकों को आसान और तेज़ Content मिलता है। इसके अलावा Website Owner को भी इसके फायदे मिलते हैं। जैसा कि हर चीज़ के दो पहलू होते हैं, पहला फायदा देने वाला और दूसरा कुछ नुकसान देने वाला होता है। इसी तरह Google AMP के भी कुछ फायदे देखने को मिलते हैं तो साथ में कुछ नुकसान भी देखने को मिलता है। अब बात करते हैं AMP के कुछ महत्वपूर्ण फायदे की।

Google AMP के फायदे ( Benifits Of Google AMP )

सामान्यतः माना जाता है कि Google AMP में Page को सिर्फ Page के Loading Speed बढ़ाने के लिए किया जाता है। लेकिन इसके अलावा भी इसके कई फायदे हैं। एक AMP Page आपके Page के साथ सात Website Speed को भी बढ़ा देता है। इसके अलावा भी इसके कुछ खास निम्नलिखित फायदे हैं।

• Improve User Experience And Decrease Bounce Rate

जब आपके Website का Page Loading Speed कम रहता है तो इससे आपके Website के Ranking पर काफी असर पड़ता है। आपके Website पर Bounce Rate बढ़ने लगता है जिससे कि SERP में आपके Page के Raking में बदलाव देखने को मिलता है। जब आप Page को AMP Mode में बदलते हैं तो इससे Page अपेक्षाकृत तेज़ हो जाता है। इससे User को आपके Website के बारे में Positive Message मिलता हैं।

User एक बार आपके Website पर आने के बाद पहले की अपेक्षा अधिक समय बिताने लगता है। इससे आपके Website Bounce Rate में कमी देखी जाती है। आपके Content को बेहतर पाने के बाद संभव है कि वह फिर से Site पर वापस आएगा और इससे Traffic बढ़ना शुरू हो जाता है।

एक आंकड़े के अनुसार अगर Website Mobile Friendly न हो तो 33 % तक संभव है कि आपका Website सफल नही हो पायेगा। दुसरी ओर अन्य आंकड़ो के अनुसार User के अनुभव को बताते हुए दावा किया गया है लगभग 57 % लोगों ने वैसे Website को पसंद नही किया जो कि Mobile Friendly नही था। तो एक बाद साफ है कि Website की कामयाबी के लिए Website का Mobile Friendly होना बहुत ही ज़रूरी है। Google AMP का काम ही Page को Mobile Friendly बनाना है। इससे यह पता चलता है कि Website Page को AMP में बदलने से कामयाबी का प्रतिशत भी बढ़ जाता है।

• Increase Server Performance

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि AMP आपके Page से कुछ ऐसी चीज़ों को हटा कर AMP Page Create करता है जिससे कि Speed पर कुछ Effect पड़ता है। इसके साथ ही AMP यह भी करता है कि यह Page पर मौजूद फ़ोटो द्वारा Use किए जा रहे Bandwidth को लगभग 50 % प्रतिशत तक कम कर देता है। यह फोटो की गुणवत्ता को प्रभावित किए बिना ही करता है। तथा Server Side Rendering को भी बढ़ाता है।  इससे फायदा यह होता है कि Server पर Load घटता है तथा Site का Performance भी बढ़ता है।

• Improve Ranking

जब आपके AMP Links पर Clicks, Impression बढ़ने लगता है तो इससे आपके Website पर भी फ्रक दिखने लगता है। जब आपके Website पर Over All User Experience बेहतर होता है तो इससे SEO पर असर पड़ता है। जब आपके AMP लिंक्स Search Engine में टॉप पर आते है तो इससे लोगों के बीच आपके Website को ले कर बेहतर संदेश जाता है और एक भरोसा बढ़ता है।

SEO Ranking की बात करे तो इसकी Ranking काफी हद तक Website के Speed पर भी निर्भर करता है और जैसा कि हम सभी जानते हैं कि AMP का काम ही Page की Speed को बढ़ाना है। इसलिए AMP से बढ़े Page Speed का फायदा Website को भी मिलता है और इसकी Ranking में सुधार होता है।

AMP के उपर्युक्त लाभ होने ले साथ कुछ नुकसान भी है। चूंकि आज के समय में अधिक्तर लोगों का उद्देश्य Website से पैसे बनाने की होती है। इसलिए AMP Page अपने Website के लिए Create करने से पहले इसके नुकसान के बारे में जान लेना बेहतर है। यह समझना जरूरी है कि AMP कई अलग अलग प्रकार के Limitations के साथ आता है। इस कारण आप इसे कभी कभी अपने अनुसार नही पाएंगे। जैसा कि ऊपर ही बात की गई थी कि हर चीज़ के दो पहलू होते हैं। इसलिए दोनो पहलू को जान कर ही फैसले लेना ठीक है। अतः AMP के कुछ फायदे देखने के बाद अब बात करते हैं इसके कुछ नुकसान की।

  • जैसा कि बताया गया है कि Google AMP Website के Speed को बढ़ाने के लिए उसपर से पहले कई चीज़ को हटाता है इसमें External Style Sheets और JavaScript भी शामिल है। इसलिए AMP इन दोनों के साथ Use नही किया जा सकता है।इसका अर्थ यह है कि अगर कुछ Ads इस Form में ही बनाया गया होगा तो फिर AMP Page पर ऐसे Ads नही दिखेंगे जो कि इस फॉर्मेट में बनाए गए होंगे। इसका नतीजा होगा कि आपके इस Webpage पर कोई Ads नही दिखेगा। Ads न दिखने का मतलब है कि Website से होने वाली कमाई पर सीधा असर पड़ेगा। हकांकि इस Page पर वैसे Ads आते रहेंगे जो कि किसी अन्य Form में बनाए गए होंगे। मौजूदा समय में अब Ads भी AMP Page को ध्यान में रखते हुए ही बनाए जाते हैं।
  • AMP Page की कमियों में एक कमी यह भी है कि ऐसे Page खरीदारी ( Shopping ) इत्यादि नही कर सकते हैं। चुकी AMP अकेले ही Page का होता है। और हम जानते हैं कि Shopping इत्यादि के समय पसंद करने के बाद Billings से ले कर Address इत्यादि की जानकारी के लिए कई Page पर जाना होता है। इस कारण AMP Page तुरन्त ही User को Original Page पर Direct कर देता था।
  • AMP Page को Fast बनाने के लिए Page से अधिक्तर High Definition Graphics, Elaborate Animation तथा अन्य दूसरे Flashy Elements इत्यादि को हटा देता है जो कि CSS और JavaScript का उपयोग करता है।
  • AMP में यह समस्या आती है कि यह Page को Speed बनाने के लिए किसी Web Page के Cached Version को दिखाने के लिए Google को Enable कर देता है। उस कारण User को सिर्फ पुराने कंटेंट ही देखने को मिल सकते हैं और वह Content के Latest Version पर नही जा पाते हैं।

WordPress के लिए AMP कैसे सेट करें?

आपको आपने Website के लिए AMP Set करने के लिए WordPress AMP Plugging की ज़रूरत पड़ेगी। एक तरीके से AMP for WordPress Pugin का उपयोग कर, इसके विभिन्न Stapes को Follow करते हुए AMP Set कर सकते हैं। दूसरे तरिके से आप AMP for WP Accelerated Mobile Pages Plugin को Install कर इसके विभिन्न चरण को पूरा करते हुए आप अपने Page को AMP में Create कर सकते हैं।

इसके करने के बाद अंतिम कदम के रूप में आपको WordPress AMP Site को Validate करने की आवश्यकता होगी। इसके लिए आप दोनों में से किसी भी Plugin का उपयोग कर सकते हैं। इसे Validate करने के लिए कुछ अधिक करने की ज़रूरत नही पड़ती है। इसे आप अपने Use कर रहे Browser के Developer Tool से Validate कर सकते हैं।

इस Article को पढ़ने के बाद आशा है कि आपको Google AMP से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातों का पता चल गया होगा। अगर आप इस Article के बारे में अपनी कोई राय देना चाहते हैं या कोई सवाल है तो Comment Box में ज़रूर बताएं।

हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारे Social Media ( Facebook , Twitter , Google Plus ) को Like और Follow कर सकते हैं ।

3 Comments

  1. Raushan Khuswaha January 5, 2019
    • Anil January 6, 2019
  2. Ayushi February 19, 2019

Add Comment

error: Content is protected don\\\\\\\'t copy !!